Programs

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय कैंटीन द्वारा आने वाले दर्शकों हेतु प्रत्येक शनिवार एवं रविवार को पारंपरिक भोजन की शुरुआत की गई है
यह पारंपरिक भोजन प्रत्येक शनिवार रविवार को दिन में 1:30 बजे से 4:00 बजे तक आम दर्शकों हेतु उपलब्ध रहेगा इसमें शुरुआत में मक्का की रोटी, बैगन का भरता, हरी चटनी, सलाद एवं देसी गुण के स्वाद का आनंद दर्शक उठा सकेंगे.
इसमें एक थाली की कीमत ₹100 रखी गई है.

Traditional food has been started on every Saturday and Sunday for the visitors coming by Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya Canteen.
 This traditional food will be available for the general audience every Saturday and Sunday from 1:30 am to 4:00 pm, in which the audience will be able to enjoy the taste of maize roti, brinjal ka bharta, green chutney, salad and desi quality in the beginning.
 In this, the cost of a plate has been kept at ₹ 100.

World Environment Day Celebration
विश्व पर्यावरण दिवस समारोह
05 जून-June, 2021

ऑनलाइन चित्रकला प्रतियोगिता:
भविष्य के लिए पर्यावरण का संरक्षण करें।
Online painting competition:
Save the Environment for future

नगद पुरस्कार : रूपये 1000/-, 750/-, 500/- और 300/- के चार सांत्वना पुरस्कार
Cash prize of Rs 1000/-, Rs 750/-, Rs. 500/- and four consolation prizes of Rs 300/- each.

ड्राइंग/पेंटिंग को igrmsactivity[at]gmail[dot]com पर
03 जून 2021की प्रातः 10:00 से लेकर
09 जून 2021 की रात्रि 10:00 बजे तक जमा किया जा सकेगा।

The Drawing/Painting should be submitted to igrmsactivity[at]gmail[dot]com 
from 10 a.m. on 3rd June till 10 p.m.
on 09th Jun 2021.

अधिक जानकारी के लिए
For further details also visit:  http://igrms.com

_________

 

ड्रॉइंग/चित्रकला प्रतियोगिता में भाग लेने के नियम एवं शर्तें:

1.इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय द्वारा विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर एक ड्राइंग/चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया जा रहा है। इस प्रतियोगिता में सिर्फ कक्षा बारहवीं तक के बच्चे ही भाग ले सकते हैं। उन्हें इस संबंध में एक घोषणा पत्र भी देना होगा कि वह कौन सी कक्षा में अध्ययनरत हैं।

2. "IGRMS" शब्द के इर्द-गिर्द डूडल की ड्राइंग/पेंटिंग बनाना है, जिसका शीर्षक "भविष्य के लिए पर्यावरण का संरक्षण करें " है। डूडल से संबंधित एक उदाहरण प्रतिभागियों की सुविधा के लिए संलग्न है। यह ग्राफिकल रिप्रेजेंटेशन प्रतिभागियों को एक आईडिया देने के लिए है। प्रतिभागियों को "IGRMS" को केंद्र में रखते हुएअपनी कल्पना और नवीन विचारों का उपयोग करना है।

3. ड्राइंग/पेंटिंग ड्राइंग शीट के एक चौथाई आकार में बनानी है। इसे डिजिटल मीडियम में बना करके भी जमा किया जा सकता है। डिजिटल मीडियम में बनाने पर इसकी साइज़ 300 डीपीआई होनी चाहिए।

 

4.एक प्रतिभागी द्वारा एक  ही ड्राइंग/पेंटिंग जमा की जा सकेगी।

 5. प्रतिभागियों को अपने द्वारा ड्राइंग शीट पर बनाई हुई ड्राइंग/पेंटिंग को स्कैन कर या उसका स्पष्ट फोटो खींचकर ईमेल  igrmsactivity [at] gmail [dot] com पर 03 जून की सुबह 10:00 बजे से लेकर 09 जून 2021 की रात 10:00 बजे तक जमा करानी होगी। इसके बाद मूल पेंटिंग दिनांक 15 जून, 2021 तक संग्रहालय के मुख्य द्वार क्रमांक एक पर जमा करानी होगी या डाक/कोरियर के माध्यम से भेजनी होगी। डाक/कोरियर के माध्यम से भेजे जाने की स्थिति में अंतिम तारीख 25 जून होगी।

6. इन ड्रॉइंग/पेंटिंग का कॉपीराइट इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय का होगा। संग्रहालय द्वारा प्रदर्शनी/ अकादमिक गतिविधियों में इनका उपयोग किया जा सकेगा।

7. इस प्रतियोगिता से संबन्धित किसी भी विवाद की स्थिति में निदेशक, इं.गां.रा.मा.सं का निर्णय अंतिम माना जाएगा।

Terms and Conditions for Participating in Drawing/Painting Competition:

1. A Drawing/Painting competition is being organized by Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya on the occasion of World Environment Day. Only children up to class XII can participate in this competition. They will also have to give a declaration regarding the class in which they are studying.

2. Drawing/Painting of Doodle around the word "IGRMS", is to be made. It is titled as " Save the Environment for future". An example related to the doodle is attached for the convenience of the participants. Its a graphical representation to give just an idea to the participants. Participants should use their imagination and innovative ideas keeping the "IGRMS" in the centre.

3. The drawing/painting is to be made in the size of one fourth of the drawing sheet. It can also be submitted by making it in digital medium. If made in digital medium its size should be 300 dpi.

4. A participant can submit only one drawing/painting.

 5. The participants have to scan the drawing/painting made by them on the drawing sheet or take a clear photograph of it and submit it on email igrmsactivity [at] gmail [dot] com from 10:00 AM on 03rd June to 10:00 PM on 09th June 2021. After this, the original painting will have to be deposited at the main gate number one of the museum by the date 15th June, 2021 or will have to be sent through post/courier. In case of sending through post/courier, the last date will be 25th June.

6. The copyright of these drawings/paintings will be of Indira Gandhi Rashtriya Manav Sangrahalaya, Bhopal. These can be used by the museum for exhibition/academic purposes.

7. In case of any dispute related to this competition, the decision of the Director, IGRMS will be considered final.

क्र.1-6/2020-स्था.
इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय
(संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार का स्वायत्तषासी संस्थान)
पोस्ट बैग नं. 2, शामला हिल्स, भोपाल-462002 म. प्र.

IGRMS की रिक्ति-पद से संबंधित विवरण के लिए नीचे दिए गए
लिंक पर क्लिक करें:
http://igrms.gov.in/sites/default/files/advt_Jan.2021_Hindi.pdf

IGRMS की रिक्ति-पद के आवेदन फॉर्म डाउनलोड के लिए
नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:
http://igrms.gov.in/sites/default/files/PROFORMA_Hindi.pdf

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय द्वारा वर्तमान कोविड महामारी के दौरान लॉकडाउन के चलते सभी को अपने साथ डिजिटल रूप से जोड़ने के उद्देश्य से भोपाल स्थित अपने 200 एकड़ के परिसर में प्रदर्शित प्रादर्शों को ऑनलाइन दिखाने के लिए एक नई श्रृंखला प्रारंभ कर रहा है। इस श्रृंखला का मुख्य उद्देश्य पारंपरिक जीवन शैली की सौंदर्यात्मक विशेषताओं, स्थानीय ज्ञान और संस्कृति की आधुनिक समाज के साथ निरंतर प्रासंगिकता को उजागर करना है। इस श्रृंखला का उदघाटन आज माननीय केन्द्रीय राज्य मंत्री, पर्यटन एवं संस्कृति, भारत सरकार, श्री प्रहलाद सिंह पटेल द्वारा किया गया। कार्यक्रम के प्रारंभ में संग्रहालय के निदेशक, डॉ. प्रवीण कुमार मिश्र ने माननीय मंत्री जी का स्वागत किया एवं प्रतीक चिन्ह भेंट किया।

इस अवसर पर, श्री पटेल ने कहा कि भारतीय संस्कृति की महत्ता तथा जीवनशैली सर्वश्रेष्ठ और सबसे उन्नत है। मानव संग्रहालय की खास बात संग्रहालय परिसर में ही विद्यमान प्रागैतिहासिक शैलचित्र है। इससे बड़ी पूंजी दुनिया में किसी भी संग्रहालय के पास नहीं है। मुक्ताकाश प्रर्दशनी के बारे में दुनिया में इस संग्रहालय की प्रतिष्ठा सबसे ज्यादा है। इस संग्रहालय के  बारे में  तथ्यपरक बाते ज्यादा से ज्यादा लिखी जानी चाहिए। कुछ  लोगों ने हमारी मान्यताओं को कमत्तर बताने एवं अनुपयोगी साबित करने का कार्य जरूर किया है लेकिन इससे घबराने की जरुरत नहीं है। कोरोना महामारी से यह बात उभरकर सामने आई है कि हमारी पारम्परिक जीवन पद्धति के कारण ही हम भारतीय शेष विश्व की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है। अभिवादन के लिए परम्परागत रूप से हाथ जोड़ने के तरीके को विश्व के अन्य देश भी अपना रहे है और हमारी संस्कृति को सम्मान से देख रहे हैं। सांस्कृतिक विरासत एवं जीवन पद्धति के तथ्यों का आकलन पूर्वाग्रह से मुक्त होकर करना चाहिए।

इसके पश्चात माननीय मंत्री महोदय ने ऑनलाईन प्रदर्शनी श्रृंखला के अंतर्गत आज संग्रहालय के पारंपरिक तकनीक उद्यान मुक्ताकाश प्रदर्शनी परिसर में प्रदर्शित छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले के रजवार लोकसमूह में प्रचलित बीजो से तेल निकालने के उपकरण “तिरही” को ऑनलाईन जारी किया। इस प्रादर्श को इसकी मूल जानकारी एवं छायाचित्रों एवं वीडियों सहित प्रस्तुत किया गया है।

इस शुभारंभ के पश्चात निदेशक महोदय एवं वरिष्ठ संग्रहालयविदों द्वारा मा. मंत्री जी को संग्रहालय के अंतरंग प्रदर्शनी भवन के दीर्घाओं का भ्रमण कराया गया।

ऑनलाइन प्रदर्शनी श्रृंखला – Online Exhibition Series (Click to view the online exhibtion series)

इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय अपनी स्थापना के समय से ही मानव जाति की गाथा को, समय और स्थान के परिप्रेक्ष्य में दर्शाने में संलग्न है। संग्रहालय भारतीय विरासत के संरक्षण, सवर्धन और पुनरुद्धार पर केंद्रित है। इसकी अंतरंग और मुक्ताकाश प्रदर्शनियाँ देश भर में रहने वाले विभिन्न समुदायों की लुप्त प्रायः स्थानीय संस्कृतियों की प्रासंगिकता को प्रदर्शित करती है। इस महामारी के दौरान सभी को अपने साथ डिजिटल रूप से जोड़ने के उद्देश्य से इं.गाँ.रा.मा.सं. 200 एकड़ में प्रदर्शित अपने प्रादर्शों को ऑनलाइन प्रदर्शित करने हेतु एक नई श्रृंखला प्रस्तुत कर रहा है। प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य पारंपरिक जीवन शैली के विभिन्न सौंदर्य गुणों और आधुनिक समाज में इसकी निरंतरता को उजागर करना है।

श्रृंखला के मुख्य आकर्षण में जनजातीय आवास, हिमालयी गांव, मरु ग्राम और तटीय गांव की मुक्ताकाश प्रदर्शनियों में दर्शायी गयी पारंपरिक वास्तु विविधता है। पारंपरिक तकनीकी पार्क मुक्ताकाश प्रदर्शनी में सरल तकनीकी के माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग करने में रचनात्मक कौशल को दर्शाया गया है। शैल कला धरोहर प्रदर्शनी प्रागैतिहासिक काल के दौरान मानव विचारों और संचार की अभिव्यक्ति का एक उल्लेखनीय उदाहरण है। पुनीत वन प्रदर्शनी जैव विविधता के संरक्षण के पारंपरिक तरीकों को प्रदर्शित करती है। मिथक वीथि मुक्ताकाश प्रदर्शनी में विभिन्न समुदायों के दैनिक जीवन से संबंधित कथाओं का चित्रण देखा जा सकता है। कुम्हार पारा प्रदर्शनी, भारत की मिट्टी के बर्तनों और टेराकोटा परंपराओं पर केंद्रित है।

वीथि संकुल- अंतरंग संग्रहालय भवन की 12 दीर्घाओं में मानव संस्कृतियों के विविध पहलुओं को दर्शाया गया है। इसके मुख्य आकर्षण में भारत सहित दुनिया भर से संकलित प्रादर्शों को मॉडल, ग्राफिक्स, डायरोमास, शोकेसेस के माध्यम से विषयवार प्रस्तुत किया गया है।

18 जून, 2020 से प्रारंभ हो रही इस श्रृंखला में पारंपरिक तकनीकी मुक्ताकाश प्रदर्शनी से प्रादर्श की प्रस्तुति दी जा रही है।

डॉ. प्रवीण कुमार मिश्र

निदेशक / सीईओ-आईजीआरएमएस /
संस्थागत प्रमुख

इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संगठन
शामला हिल्स
भोपाल- 462013

संपर्क-91-755-2661458
ईमेल- dirigrms-mp [at] nic [dot] in

 

18 मई, 2020 को अंतर्राष्ट्रीय संग्रहालय दिवस के अवसर पर I.G.R.M.S. 'म्यूजियम पर COVID-19 का प्रभाव' विषय पर एक निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया। इस प्रतियोगिता को पूरे भारत से भारी प्रतिक्रिया मिली।
इस प्रतियोगिता का परिणाम इस प्रकार है:

1. सुश्री शिखा सिंह- प्रथम स्थान
2. सुश्री साक्षी अजमेरा- दूसरा स्थान
3. श्री ताहिर खान- तीसरा स्थान
पढ़ने के लिए निबंध डाउनलोड करें (लिंक पर क्लिक करें)

प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले प्रतिभागियों को रुपये के नकद पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। क्रमशः 3000, रु. 2000 और रु.1000। सभी प्रतिभागियों को डिजिटल सर्टिफिकेट दिया जाएगा।

सप्ताह का प्रादर्श
वर्ड प्रेस के माध्यम से हमारे साथ ब्लॉग के लिंक पर क्लिक करें!
Click above the link to Blog with us via Word Press!

Pages

Page Updated On :09-10-2021